14_फरवरी_हवस_दिवस? 😡😡

    14_फरवरी_हवस_दिवस 😡😡
तीन चीजें… ध्यान देने की हैं……
📌 वैलेंटाइन को सपोर्ट/प्रोमोट कौन करता है…
बॉलीवुड , टीवी सीरियल, प्राइवेट न्यूज चैनल/ FM रेडियो , वामपंथी , महिलावादी बुद्धिजीवी
📌 कमाई किसकी होती है…
शुरू में…
विदेशी गिफ्ट कम्पनियों की, विदेशी चाकलेट, बेकरी कम्पनियों की, विदेशी precaution ( कॉन्डोम / गर्भनिरोधक गोलियों ) की , पोर्न इंडस्ट्रीज की, बॉलीवुड/फिल्मों की…
बाद में…
गर्भपात करने वाले डॉक्टर्स की, अजन्मे बच्चों को बेचकर, बाझपन/कैंसर/गुप्त रोग के डॉक्टर्स और स्त्री रोग विशेषज्ञों की, सोशल नेट्वर्किंग एप्प और पोर्न साईट की, सच्ची घटनाओ पर आधारित टीवी सीरियल/शोर्ट मूवी की, ट्रैफिकिंग के बाद अंग व्यापार और जू प्रोडक्ट इंडस्ट्रीज की, महिला सुरक्षा के खोखले वादों पर वोट बनाने वाले और फर्जी योजनाएँ चलाने वाले नेताओं…और भी कई हैं…बड़े छोटे…
📌 इसमें फंसती/मरती कौन हैं…
छोटे शहरों के मध्यमवर्गीय और निचले तबके की ज्यादातर पढ़ी लिखी लड़किया,,,जिनके परिवार का कोई रजिनितिक और क़ानूनी पकड़ नही होता…सीधे साधे और दुनियादारी से अनजान भोले लोग…
😡😡😡😡😡
इसमें ऐसा कुछ भी नहीं जो आप नहीं जानते…आप सबकुछ जानते हो…
दिसम्बर से फरवरी तक…एक मास्टर लेवल की स्क्रिप्ट रची जाती है…फिर बड़ी सफाई से प्यार / मोहब्बत / आशिकी के नाम पर बड़े स्तर पर लड़कियों को फसाकर / मारकर अरबो रूपये का देशी विदेशी व्यापार होता है…
😡😡😡😡😡
वैलेंटाइन कोई त्यौहार नहीं है…यह बड़े लेवल का बिजनेस इवेंट है…
फरवरी लडकियों के लिए सबसे खतरनाक महिना होता है…अपनी बच्ची का विशेस ध्यान रखें. जो दूसरी लडकियों के साथ हो रहा है….वो आपकी बेटी के साथ नहीं होगा…उसकी कोई गारंटी नहीं…अनसेफ संपर्कों के चलते टीबी, वीडीआरएल, फंगल इन्फेक्शन, हैपिटाईटिस, एचआईवी /एड्स, और कोरोना जैसे गंभीर और अनक्यूरेबल डिजीज फैलने का खतरा बना रहता है।  विचार किजिए